कौशल गजेन्द्र एबी पॉजिटिव ब्लड डोनर 10 वीं बार Kaushal Gajendra AB+ Blood Donor 10th Time

मित्रों आज के इस आर्टिकल में हम एक ऐसे सख्श की जीवन के बारे में जानने वाले हैं जो कोरोना की एक संकट की घड़ी में एक छोटी बच्ची जो 12 साल की जो थायरॉइड से ग्रसित हैं उनके जीवन के लिए अपना ब्लड डोनेट कर बच्ची को नए जीवन दिया.

उनका नाम कौशल गजेंद्र हैं जिन्होंने एक बच्ची की जीवन की रक्षा के लिए 10 वी बार रक्तदान किया कौशल गजेंद्र जी एक वरिष्ठ स्वयं सेवक है जो हमेशा जनहित और समाजसेवा के ततपरता से अग्रणी रहते हैं.

परिचय:- कौशल गजेंद्र जी का जन्म 31/12/1994 में ग्राम-परसतराई, ब्लॉक-गुंडरदेही, जिला-बालोद(छ. ग.) में हुआ. उनकी शिक्षा अर्जुन्दा में हुआ अर्जुन्दा में ही प्राइमरी से लेकर हाइस्कूल तक 12 वी तक कि पढ़ाई अर्जुन्दा में ही रहकर पूरा किये. हाईस्कूल में वे NSS में जॉइन किये और स्कूल के तरफ से दो साल तक अलग – अलग गांवों में स्वच्छता का अभियान चलाया और एक स्वच्छता सन्देश बिखेरा.

12 वी के बाद कॉलेज जॉइन किये कॉलेज की पढ़ाई करते करते फर्स्ट ईयर में ही NSUI से छात्रसंघ चुनाव में सहसचिव के पद पर विजयी हुए उसके सेकंड ईयर में उपाध्यक्ष पद में विजयी हुए और फाइनल ईयर में वे अध्यक्ष के पद पर चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य हो यानि कि वे अध्यक्ष पद का चुनाव नही लड़ पाए क्योंकि वो किसी सब्जेक्ट में पूरक आये थे जिस कारण वे इस पद के लिए नामांकन नही भर पाए.

पिता जी शिक्षक हैं

कौशल गजेंद्र जी के पिता जी एक शिक्षक हैं औऱ जैसे कि हम जानते हैं कि एक शिक्षक अपने बेटे को पढ़ाई में अच्छे प्रदर्शन के लिए हमेशा अग्रसर रहते हैं लेकिन कौशल गजेन्द्र अपनी हर बात बेबाकी के साथ कहते हैं कि वो एक शिक्षक के बेटे है लेकिन उनकी अपनी बहुत ही कमजोर हैं. लेकिन वो हमेशा औरों के लिए समाजसेवा और जनहित उद्देश्यों से सराहनीय कार्य करते रहते हैं.

कॉलेज में भी वे छात्रसंघ से जुड़े रहते हुए वे NSS जॉइन किये और कॉलेज के माध्यम से NSS में समाजसेवा का कार्य किये उनका मानना है कि NSS एक बहुत ही अच्छा माध्यम है जिसमे हमें समाजसेवा के लिए औऱ नैतिकता की एक प्रखरता झलकती है..

 

Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor MyBloggingera.com
Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor MyBloggingera.com

2019 में मुख्यमंत्री द्वारा सम्मनित

कॉलेज की पढ़ाई पूर्ण होने के बाद वे पंडित रविशंकर शुक्ल यूनिवर्सिटी रायपुर में यूनिवर्सिटी में ही MSW( Master of social working) में पढ़ाई किये इस विषय मे शिक्षा प्राप्ति के साथ ही वे NSS में रहते हुए विश्वविद्यालय और छत्तीसगढ़ राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए अलग अलग राज्यों में भी गए जैसे रांची, भोपाल, लखनऊ आदि।
साल 2019 में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री माननीय श्री भूपेश बघेल जी द्वारा सर्वश्रेष्ठ सेवक के रूप में सम्मानित हुए.

Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor MyBloggingera
Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor MyBloggingera

NSS से मिली प्रेरणा

कौशल गजेंद्र जी जब nss जॉइन किये तब इन्होंने यह जाना कि समाजसेवा के उद्देश्य को चरितार्थ कर हम किस तरह लोगों की सेवा अपना रक्तदान करके कर सकते हैं और लोगों को क्या क्या तकलीफ होती है उनकी इन तकलीफों को हम किस तरह से अपने शरीर का थोड़ा सा रक्त दान करके दूर कर सकते हैं.

साल 2015 में पहला रक्तदान

शासकीय उपस्वास्थ्य केंद्र अर्जुन्दा के शिविर में 2015 में सबसे पहले रक्तदान किये.
साल 2016के दूसरी बार हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग में शिविर में ब्लड डोनेट किये थे.साल 2017 में रायपुर में ब्लड डोनेट किये थे.
फिर इसी तरह हर साल और जब भी किसी को जरुरत होती है तो वो ब्लड डोनेट करते रहते हैं इस तरह वे लोगों की जीवन मे खुशियाँ लाने के लिए तत्परता से अग्रणी रहते हैं.

 

Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor My Blogging era.com
Kaushal Gajendra Ab+ Blood Donor My Blogging era.com

10 वी बार ब्लड डोनेट किये 2020 में एक छोटी बच्ची के लिए

जब इस साल 2020 में पूरी देश और दुनिया मे कोरोना का संकट है और दुनिया थमी हुई है पर भी इस संकट में युवा लगातार आगे आ रहे हैं औऱ रक्तदान महादान को चरितार्थ करते हुए लोगों की जीवन के लिए रक्तदान कर रहे हैं.
कौशल गजेन्द्र भी इस संकट में रायपुर की एक 12 साल की बच्ची संचिता होतचंदानी जो कि थैलेसीमिया की एक पेशेंट है और थैलेसीमिया सोसाइटी रायपुर में भर्ती थी उनकी जान बचाने के लिए इन्होंने इस संकट में अपना AB+ ब्लड डोनेट किये. और उस नन्ही बच्ची के जीवन मे एक नई उम्मीद और आशा के साथ उसके लिए खुशियों का तोहफा दे गए.इस तरह 10 वी बार का रक्तदान एक छोटी बच्ची जो भारत का भविष्य है उसके लिए दान किये.

इस तरह वे रक्तदान को महादान बनाने के उद्देश्य से लगातार रक्तदान कर मानवता का फर्ज अदा कर रहे हैं.इसके साथ ही वे युवाओं में नशा का कारण व प्रभाव, बाल अपराध,बाल अधिकार, एड्स, गरीबी उन्मूलन, कौशल विकास योजना, डीजिटल इंडिया, साक्षरता, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत अनेक विषयों में सराहनीय कार्य कर रहे हैं.

कौशल गजेंद्र का संदेश

जब भी हमें किसी के लिए ब्लड की जरूरत होती है तो हमें स्वयं पहले आना चाहिए, और फिर अपने परिवार में किसी को कहना चाहिए या फिर अपने दोस्तों को कहना चाहिये और अंतिम में हमे blood बैंक या रक्तदान करने वाले समुह या संगठन के पास जाना चाहिए।

दोस्तों अगर आप भी ऐसे ही जनहित समाजसेवा जैसे पुनीत कार्य से जुड़े है तो आप भी हमे अपनी लाइफ स्टोरी भेज सकते है आपकी समाजसेवा की कहानी को हम अवश्य प्रसारित करेंगे  अगर आपको अपनी कहानी को लिकहने में असुविधा है तो आप अपना सिर्फ जानकारी ही भेज दीजिये हम उसे पूरा कर अपलोड किया जायेगा संपर्क बिट्टू साहू – 7697534887

Author: bloggingera