रुपेश साहू ब्लड डोनर- कोरोना योद्धा Rupesh Sahu Blood Donor Corona Fighter

Table of Contents

रक्तदान महादान

कोरोना वायरस के इस भयंकर दौर में जंहा खुद के जीवन को बचा पाना बहुत मुश्किल है हर तरफ मौत और बर्बादी का अँधेरा है तो वंही कुछ लोग फ़रिश्ता, देवदूत बनकर आते है और हमें जिन्दगी को गिफ्ट कर हमारे जीवन में उजाला दे जाते हैं दोस्तों बीमारी के इस दौर हमारे डॉक्टर, नर्स, मेडिकल स्टाफ, पुलिस और प्रशासन के साथ ही समाज का एक और वर्ग भी है जो लोगो को जीवन दान देते है जी हाँ हम बात कर रहे है रक्तदाताओं का जो की अपने शरीर का अमूल्य खून को दान कर रोते हुए आँखों को खुशिया दे जाते है रक्तदान – महादान को चरितार्थ करते हुए हम समाज के सुपर हीरोस का परिचय सीरिज इस वेबसाईट में ले कर आयें है जो की ना जाने कितनो की जान बचा चुके है और समाज के लिए आदर्श बन युवाओ के लिए प्रेरणास्त्रोत बने है

हमारे पहले सुपर हीरो है –

रुपेश साहू (B+) खामतराई जिला बालोद से है जो 3 बार ब्लड डोनेशन कर चुके है और कोरोना योद्धा के रूप में काम कर रहे है और उनका सपना कम से कम 50 बार ब्लड डोनेशन करने का है रुपेश साहू का मानना है की रक्तदान से दुसरो का भला तो होता ही है उससे ज्यादा खुद के शरीर का बहुत ज्यादा भला होता है इससे हम अपने आप को सैकड़ो फायदे अनजाने में ही कर लेते है और जब अपने खून से जो किसी का जान बचता है तो उस ख़ुशी से बढ़कर कोई ख़ुशी नहीं है

जरुरी नही की बॉर्डर पर रहकर ही देश सेवा की जाये, रक्तदान, देहदान, नेत्रदान करके भी राष्ट्र की सेवा की जा सकती है

रक्तसमूह

रुपेश साहू का रक्तसमूह B+ है

रक्तदान का दिन जो हाल ही में किये है और आगामी दिन जब रक्तदान करेंगे

अंतिम रक्तदान दिनांक 07 अप्रेल 2020 को किया है  और आने वाले 24 जून को पुनः रक्तदान करेंगे अपने जन्मदिन पर

रक्तदान करने का लक्ष्य

न्यूनतम 50 बार रक्तदान करने का लक्ष्य रखा है रुपेश जी ने

 

निजी जीवन

रुपेश साहू (B+) का जन्म 24 जून 1999 को छत्तीसगढ़ राज्य के बालोद जिले के ग्राम खामताराई ग्राम में हुआ है उनके पिताजी हेमंत साहू ऑटो व्हिक्ल मेकेनिक है और उनकी माँ हॉउसवाईफ है दो भाइयो में सबसे बड़ा रुपेश साहू बचपन से ही पढाई में बेहद कुशाग्र है और वो डॉक्टर बनने का सपना है हालाँकि उनके घर के आर्थिक तंगी के कारण उन्हें यह सपना तोडना पड़ा और और आगे भविष्य में पैरामेडिकल की पढाई कर समाज सेवा में आगे आना चाहता है अभी वो राजनांदगांव के दिग्विजय कॉलेज में बीएससी बायोटेक्नोलॉजी 3RD ईयर का स्टूडेंट है उनका पढाई का ललक इतना ज्यादा है की जब वो फर्स्ट ईयर एक्जाम के समय में एक बाइक दुर्घटना में उन्हें बहुत चोट भी आया था लेकिन उन्होंने हॉस्पिटल जाने के बजाय एग्जाम दिलाने गया और फिर एग्जाम के बाद हॉस्पिटल गया और आराम करने के बजाय सिर्फ पढ़ाई ही करता रहा और अपने कठिन परिश्रम से प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए,

रक्तदान –

रुपेश साहू कॉलेज के पढाई के दौरान छात्र युवा मंच नामक संगठन जो की अपने सामाजिक कार्य के लिए पुरे प्रदेश में जाना जाता है जो पुरे राजनांदगांव जिले में सबसे ज्यादा रक्तदान करने का रिकॉर्ड है इस संगठन से जुड़े और छात्र युवा मंच के संयोजक नागेश यदु 38 बार के रक्तदाता और जिले के सबसे बड़े रक्तवीर फनेंद्र जैन जी 85 बार के रक्तदाता एवम युनुस अजनबी जी 43 बार के रक्तदाता से बहुत ज्यादा प्रभावित हुए और अपना जीवन भी रक्तदान और सामाजिक कार्यो के लिए पूरी तरह से समर्पित कर दिया हालाँकि उस समय रुपेश साहू का वजन रक्तदान करने लायक नही था जिस कारण वह दो बार ब्लड देने के लिए रिजेक्ट होने पर मायूस हो जाता था लेकिन अपने दोस्तों को रक्तदान करने के लिए इंस्पायर करते हुए अपने दोस्तों को ब्लड बैंक खुद ले कर जाते थे और ऐसे ही कम से कम 15 बार ब्लड डोनेशन कराया है

इसे भी पढ़े – मनरेगा लेबर रेट में हुआ बढ़ोत्तरी जाने कितना बढ़ा

इसे भी पढ़े – गूगल से अपना जन्मदिन जानें

 

कोरोना योद्धा

रुपेश साहू जी ब्लड डोनेशन के साथ ही छात्र युवा मंच के ध्येय वाक्य – शिक्षा जीवन के लिए और जीवन वतन के लिए को चरितार्थ करते हुए लोगो को कोरोना से बचाव के लिए जागरूक भी कर रहे है वह छात्र युवा मंच के टीम के साथ और ग्राम के महिला कमांडो, मितानिनो और अन्य जागरूक लोगो के साथ मिल कर लोगो को मास्क लगाने, सैनीटाइजर्स के उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते रहते है अपने क्षेत्र के लोगो को कोरोना से बचने के लिए मददगार साबित हो रहे आरोग्य सेतु एप्प को मोबाईल में इंस्टालेशन करने प्रेरित कर अब तक जनप्रतिनिधि, स्टूडेंट, ड्राइवर, किराना दुकानदार, पुलिसकर्मी सहित लोगो को जिसमें कोरोना से बचने उपयोग करा रहे है साथ ही क्वारिनटाईन में रह रहे मजदूरो को कोरोना संक्रमण से बचने सैनीटाइजर्स का वितरण और अन्य उपयोगी सामग्री मुहैया कराया गया और उन्हें स्वस्थ रहने प्रेरित भी किया, ग्रामीण अंचलो में मितानिनो द्वारा ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा को बेहतर रखे है जिसे छात्र युवा मंच द्वारा सम्मानित किया जायेगा

इसे भी पढ़े-  आप आधुनिक एवम वैज्ञानिक कृषि से संबधित सभी जानकारी किसान विलेज डॉट कॉम से भी पढ़ सकते है

डेंगू योद्धा

रुपेश साहू इसके पहले भी डेंगू महामारी जागरूकता अभियान को लीड कर चुके है उनके नेतृत्व मे राजनाद्गांव के दिग्विजय कॉलेज में पाम्प्लेट के माध्यम से लगभग 3000 छात्र/छात्राओं को डेंगू से बचाव के उपाय, डेंगू के रोकथाम के उपाय बताये गए थे के चिखली वार्ड से लगभग 300 घरों में सर्वे किये थे जिसमे से लगभग 30-35 घरों के कूलर में लम्बे समय से पानी था जिसमे डेंगू के मच्छर पनपने का पूरा चांस रहता है

रुपेश साहू का यूथ को सन्देश –

रक्तदान कर जीवन दान कंही भी कोई भी व्यक्ति को रक्त की कमी से जूझना मत पड़े और राष्ट्र सेवा समाज सेवा और सभी को साथ ले कर चलना और अपनी भारत के संस्कृति की रक्षा करते हुए आगे बढाने में सबकी सहभागिता हो

वर्तमान में रुपेश साहू के सामाजिक कर्तव्यों के लिये उन्हें जिम्मेदारी दी गई है

1 छात्र युवा मंच – दुर्ग विभाग उपाध्यक्ष

2 छात्र युवा मंच – प्रभारी कोरोना महामारी जागरूकता अभियान

3 छात्र युवा मंच – प्रभारी डेंगू महामारी जागरूकता अभियान

रुपेश साहू एवं टीम को बहुत से सामाजिक संस्था ने उनके उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित भी किया है

  1. ब्लड डोनर फाउन्डेशन भानुप्रतापुर द्वारा
  2. प्रेरणा जनसहयोग फाउन्डेशन हरियाणा द्वारा
  3. वक्ता मंच रायपुर द्वारा
  4. कोरोना योद्धा सम्मान (राजेश पराते) द्वारा
  5. राज्य स्वास्थ्य संसाधन केंद्र रायपुर द्वारा

 

दोस्तों अगर आप भी इसी प्रकार से अपना प्रोफाइल पेज फ्री में बनवाना चाहते है तो आप हमें व्हाट्स एप्प करें +919174701414 में आपका पेज चाहे वो पर्सनल हो या संगठन से संबधित या कोई बिजनेस से रिलेटेड आप हमें कांटेक्ट कर सकते है आपका पेज पब्लिश होने के एक हफ्ते के अंदर गूगल 1ST Rank में आ जायेगा धन्यवाद जल्दी कीजिये अभी ये ऑफर फ्री में उपलब्ध है
Author: bloggingera